Header Ads

गांव की खूबसूरत यादें । Short Inspirational Story in Hindi

Short Inspirational Story in Hindi - Village life quotes in hindi - beautiful Girl image


मेरे गांव की खूबसूरत यादें । Short Inspirational Story in Hindi - Village life quotes in hindi



गाँव में रहने के दौरान मैंने काफी कुछ सीखा था।उन सबके बारे में सोचकर मुझे अब भी बहुत खुशी होती है।

सबसे पहले मायके वाले गाँव की—

1- जब भी वहाँ जाते थे,ताई जी, ताऊजी और दादी जी मुझे सर आँखों पर बिठाकर रखते थे।



2- वहाँ चाहे कोई भी खाना बनें कम मसाले मिर्च और कम तेल में बनता था। लेकिन स्वाद बेजोड़ होता था। और मिट्टी के चूल्हे पर मेरी ताई जी जो बहुत मोटी और छोटी सी रोटी धीमी आंच पर लाल और कड़ी रोटी सेंक कर देती थीं वाह!!!😋😋 मैं उसे पापड़ रोटी कहती थी।और बाकी लोग हथपोई रोटी।

गांव की खूबसूरत यादें । Village Story Quotes In Hindi

3- जो बर्तन धोने और बाकी काम के लिए सिंधू आती थी, वो खेत से ताजी ( शायद गेंहू की बाल) और पता नहीं क्या लेकर आती थी फिर उसे भूनकर ओखल में कूटकर मिर्च,नमक, लहसुन, भरी लाल मिर्च डालकर उम्मी बनाती थी उसका स्वाद आहा!!!!😋😋

लेकिन सिर्फ एक महीने ही रहने को मिलता था, कभी कभी तो और भी कम 

फिर ससुराल का गाँव--

True Best Hindi Motivational Story 

4- उस गाँव का घर मेरा ट्रेनिंग सेंटर भी था, वहां मैंने चुल्हे पर खाना बनाना सीखा। लोगों को सम्मान देने का एक अलग तरीका सीखा। पनीर असुद्ध है क्योंकि उसे दूध फाड़कर बनाया जाता है ये सभी बातें सीखीं। लहसुन कुत्ते का नाखून है इसलिए खाया जा सकता है, और प्याज कुत्ते का माँस है इसलिए घर में होना नहीं चाहिए।



5- वहाँ मैंने अपने धैर्य की परीक्षा दी, मुँह के अन्दर बुद्धि का दाँत निकल रहा था तो पूरा मसूड़ा सूज गया। इस वजह से एक तरफ से गाल, गला, कान, आँख सब सूज गया और खाना और पानी सब छूट गया। और जब इतनी कमजोरी हो गई कि खड़े होते ही गिर जाती थी तो गाँव के झोला छाप डॉक्टर को बुलाया गया। फिर उन्होंने उपाय बताया डेटॉल को रुई में भिगोकर मसूड़े को दबाने से आराम हो जाएगा। मैंने ऐसा ही किया दर्द में दो दिन आराम तब तक रहा जब तक मसूड़े में घाव नहीं हो गया। 

गांव की खूबसूरत यादें । Village Quotes In Hindi

फिर मसूड़े का घाव बढ़ा और उसमें मवाद बन गया। पूरा मुंह सूज गया और ऐसा जुलाई से अक्टूबर तक रहा। वो असहनीय पीड़ा बिना सोए बिना खाए बहुत प्यास लगने पर चम्मच से बूंद बूंद पानी मुँह में टपकाती थी। जून में पतिदेव पढ़ाई करने देवरिया ग‌ए थे और कोई किताब लेनीं थी इसलिए अक्टूबर में आए,तब डॉक्टर गुलाटी के यहां ले गए। वो बोले सिर्फ दो या तीन बूंद डिटॉल पानी में डालकर नहाने से किटाणु मर जाते हैं।

तो इतना अधिक डिटॉल मसूड़े पर लगाकर दबाने से घाव हुआ फिर देर होने पर मवाद बन गया। इन सब घटनाओं का नतीजा यही हुआ, मैं सोना बनकर निखर गई। और हर समस्या का हल चुटकियों में करना आ गया



ये सभी गांव की खूबसूरत यादें हैं, जिनके बारे में सोचकर खुशी होती है। ये व्यंग बिल्कुल नहीं है, क्योंकि ऐसी और भी अनेक बातों से मैं मजबूत होती गई और किसी के भी दर्द को आसानी से समझ कर जो मदद कर सकती हूँ करती हूँ।

गाँव की खूबसूरत जिंदगी याद दिलाने के लिए आपका धन्यवाद।


लेखन और संपादन: कहानी रिश्ते की : टीम 

आप इस आर्टिकल "गांव की खूबसूरत यादें - Short Inspirational Story in Hindi" लेख को ॥ कहानी रिश्ते की ॥ के माध्यम से पढ़ रहे हैं।  हमारे लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा, कृपया इस लेख को अधिक से अधिक अपने मित्रो से शेयर करें।

!! धन्यवाद मित्रो,,,,,,,,


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां