Header Ads

पहले प्यार का पहला अनुभव | My First Love Story Hindi

My First Love Story Hindi - meri pahli prem kahani hindi - Hindi First Love Stories | pehle pyar ki love story | pehle pyaar ki kahani
उतरायण की लव स्टोरी ।। My first love story hindi 

मेरी पहली प्रेम कहानी - First Love Story Hindi Mein  


उतरायण की लव स्टोरी: आज में आपको अपने पहले प्यार की स्टोरी सुनाने वाली हु. उस वक्त में करीब 18 साल की थी. साम के 06:00 बजे में टयूसन ख़तम करके घर पर आई, मैंने देखा की घर पर मेरी दीदी और जीजू आये हुए थे, क्युकी अगले दिन उतरायण का त्यौहार था. तो वो लोग हमारे साथ त्यौहार मनाने के लिए आये थे, त्यौहार के दिन उन सबको देखकर मैं बोहोत खुश हो गई, और उन दोनो के साथ जीजू का दोस्त भी आया हुआ था. जिसका नाम आदि था.


फिर हम दोनो बहनो ने मिलकर खाना बनाया, और रात का खाना खत्म करके हम सब छत पर बैठे बैठे बाते कर रहे थे. तभी मैंने नोटीस किया के आदि मेरी तरफ बार बार देख रहा था. मेरे सामने देखकर वो मुस्कुरा रहा था आदि देखने में तो अच्छा था, और काफी प्रेमसार स्वभाव का था. वह मुझे बोहोत अच्छा लगा । My Love Story Hindi 


फिर मैंने सोचा की सबको कोल्डड्रिंक पिलाती हु। थोड़ी देर बाद में सबके लिए कोल्डड्रिंक लेकर आई, में सबको ग्लास दे रही थी, फिर मैंने आदि की तरफ ग्लास बढाया वह मेरी तरफ देखकर मुस्कुराया और ग्लास पकड़ते समय उसने मेरे हाथ की उंगलिया भी पकडली और मैं मुस्कुराई पर मेरे पुरे अंग अंग में एक अजीब सी कंपन दोड़ने लगी, मुझे कुछ भी समझ में नही आ रहा था, मेरे साथ ऐसा कभी नहीं हुवा.

पहला प्यार लव स्टोरी- Sweet First Love Story Hindi 


अगले दिन उतरायण थी, इस बार की उतरायण मेरे लिए कुछ खास होने वाली थी। सुबह उठकर मैंने देखा तो सब लोग छत पर चढ़ गये थे उतरायण का मजा लेने के लिए कोई पतंग उड़ा रहा था, कोई फिरकी पकड के खड़े थे, तो कोई कन्ना बांध रहे थे, फिर मैं भी छत पर आ गई, आदि के पास पतंग और फिरकी था. मैं सीधी उसके पास गई आदि ने मुझसे पूछा चड़ाओगी की पकड़ोगी? 


यह भी पढ़े:  मुझे प्यार से नफरत है 



फिर मैंने भी उसको बोल दिया पकड़ने का काम तुम्हारा है. हम तो पतंग काटेंगे और आदि मुस्कुराने लगा, मैं भी मुस्कुराने लगी, फिर मेने पतंग चड़ाया और उसको फिरकी पकड़ा दिया. इस बार मुझे बोहोत मजा आ रहा था, क्यु की मेरे साथ कोई अजनबी था पूरा दिन सब लोगोने बहोत ही एन्जॉय किया. पता नहीं क्यों पर आज का दिन सबसे खास था. सारा दिन हम दोनो एक दूसरे को देखकर मुस्कुराये, मुझे आदि अच्छा लगने लगा था. Pehle pyaar ki kahani, first love story hindi 


उतरायण की रात हो चुकि थि, दीदी जीजू सब लोग सोने कि तैयारी कर रहे थे. दीदी को मैंने कहा आप मेरे कमरे चलो हम दोनो साथ में सोते है। दीदी आज मेरे साथ सोइ हुइ थी. जीजू ओर उनका दोस्त आदि दोनो होल मे सोये थे.


रात को करीब 02:00 बजे मुझे प्यास लगी और मे पानि पिने के लिए ऊठी, मेरी नजर सीधी आदि के बिस्तर पर पड़ी तो मेने देखा की आदि अपने बिस्तर पर नहीं था. मैं सोच में पड गई की आदि इतनी रात में कहा गया होगा, फिर मैंने आस पास देखा वो कही भी नहीं था, मुझे लगा सायद छत पर होगा, फिर मैं उसे देखने के लिए छत पर गई, आदि वही पर तो था, पर ये में क्या देख रही हु, मैंने देखा आदि अपने दोनों हाथ फेलाए क्या कर रहा है। मुझे तो कुछ भी समज नहीं आया, फिर मैंने उसे आवाज दी आदि. ये तुम क्या कर रहे हो, वो भी इतनी देर रात में....


Meri Pahli Prem Kahani Hindi, My First Love Story Hindi Main 

यह भी पढ़े:  मेरा पहला प्यार अधूरा रह गया 

मेरी आवाज सुनकर उसने मेरी तरफ एसे देखा जैसे मैंन  उसको नींद से जगाया हो, मुझे भी अजीब लगा, मगर वो मुझे देखकर बडे प्यार से मुस्कुरा रहा था, आदि मेरी तरफ प्यार से और खुसी से देख रहा था, और मेरे पास आकर  उसने कहा मुझे यकीन था तुम जरुर ऊपर आओगी, और मेरे इस प्यार भरे सपने को सच करोगी, आदि क्या कह रहा था मुझे कुछ भी समझ में नही आ रहा था, फिर मैंने कहा केसा सपना? वो कहने लगा आज मैंने जो समय तुम्हारे साथ बिताया है, तुम्हारा हसना, तुम्हारा मुस्कराना तुम्हारा बोलना, तुम्हारी हर एक अदाने मुझे पागल बना दिया है। मुझे सिर्फ तुम्हारा ही खयाल आ रहा था, में सो नहीं पा रहा था, इसलिए में ऊपर आ गया, वो लम्हा फिरसे जीना चाहता हु, जो आज तुमने मेरे साथ बिताया है......


आदि बोलता गया में सुनती गई, उसकी बाते मुझे बोहोत अच्छी लग रही थी, फिर मुझे अहसास हुआ की आदि से मुझे प्यार हो गया है। उसने धीरे से मेरा हाथ पकड़ा, और मुझे अपनी तरफ खीचा, मेरा हाथ पकड़ते ही मेरे अंग अंग में कुछ कुछ होने लगा फिर उसने मुझे पूछा क्या तुम्हे कुछ अजीब सा मेहसूस हो रहा है। मैं कुछ ना कह सकी फिर आदि ने मेरे बालो को सहेलाया और मेरे कानो में धीरे से कहा i love you ... मैं तुमसे बोहोत प्यार करता हु।

पहले प्यार का पहला अनुभव- First Love Story in Hindi


इतना कहकर उसने मुझे अपनी बाँहों में ले ली, मुझे बोहोत अच्छा लग रहा था, मुझे समज मे नहीं आ रहा था ये सही है या गलत, पर में अपने आप को रोक नहीं पाई और मैंने आदि को बहोत ही कसकर अपनी बाँहों में जकड लिया,जैसे में बहोत ही गहेरी निंद में खो गई हु, बड़ी देर तक हम एक दुसरे को जकड़े रहे, उस उतरायण का हम दोनो ने खुब मजा लिया......


आगे तो बोहोत कुछ है बताने को, पर में लिख नहीं पाउंगी. बस इतना बतादू की उस रात सारी हदे पार हो चुकि थी, और मेरी जिंदगी का ये मेरा पहेला अनुभव था, My First Love Story Hindi 


सायद हम दोनो के लिए यही था असली उतरायण का मजा,


यह भी पढ़े:  एक दिन वो मुझे जरूर मिलेगी



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ