Header Ads

मेरी हमसफर | Meri Humsafer Love Story in Hindi

Meri Humsafar Love Story in Hindi


Meri Humsafer Love Story in Hindi


मेरी हमसफर लव स्टोरी। Hallo दोस्तों मेरा नाम विशाल है, और आज मैं आपको बताऊंगा मेरे हमसफ़र मेरे साथी और उसी से होने वाले प्यार की स्टोरी, जो मेरी हमसफर थी मुझे साथ देने वाली साथी थी। बात तब की है जब मैं jee की परीक्षा देने घर जा रहा था तो एक लड़की से यू ही Train सफर में मुलाकात हो गई थी जिसने मुझे बाद मे 2020 से 2022 तक मेरे जीवन मे लगातार साथ दिया


हम दोनों ने ही प्रारंभिक परीक्षा मे 2000 के अंदर रैंक प्राप्त कर अपने लिए nit को secure कर लिया और iit advance ना देने का निर्णय लिया . इस परीक्षा के उपरान्त ही मेरे हमसफर ने मुझसे कहा कि शायद हमारा मार्ग ये नहीं है जो हम करने जा रहे हैं . वास्तविकता ये थी कि मेरी रूचि इतिहास दर्शन जैसे विषयो मे काफ़ी अधिक थी और इंजीनियर बनने का मेरा कोई सपना भी नहीं था 


Meri Humsafar Love Story


उसकी ये सलाह पता नहीं क्यों मुझे एक अवसर के तौर पर लगी और हम दोनों ने एक साल बाद bhu और du मे admission पा लिया .ये निर्णय निश्चित ही काफ़ी जटिल था यद्यपि मेरे और उसके परिवार ने हमे समाज की उन छींटाकाशियों से बचाए रखा जो हम पर हमारे निर्णय पर की जाती थी . दो साल corona के दौर मे हम दोनो ने साथ रहकर ही अपने कोर्स को pursue किया परंतु अन्तिम वर्ष मे हमे अपने college जाना प़डा इसी साल जब हम अपने गंतव्य कि ओर अग्रसर थे तो सरयू नदी की उन अविरल धारा को साक्षी मानकर अपने प्रण को दोहराया जिसके साक्षी स्वयं सूर्य देव हैं। 


परंतु इसी नवंबर मे 5 तारीख को विभिन्न स्वास्थ्य कारणों से मैंने अपने उस हमसफर को खो दिया दुःखद ये रहा उसको पता था मेरा पेपर होने वाला है इसलिए उसने मुझे किसी भी प्रकार के अपने अस्वस्थता होने की जानकारी नहीं दी, शरीर छोड़ने के अंतिम क्षण मे मैं यद्यपि उसके साथ नहीं था परंतु उस आत्मा को जिसे मैंने अपनी स्वयं की आत्मा माना था से बिछड़ना तो कभी संभावना नहीं है। 


Meri Humsafar Love Story in Hindi


उसकी अस्थियों को गंगा मे प्रवाहित करते हुए उसकी हर बातों का याद आना स्वाभाविक था लेकिन उस क्षण भी उसके वो अंश भी मुझे अपने प्रण कि पूर्ति के लिए प्रेरित करते hi . मैं नहीं जानता प्यार कैसा होता है पर हाँ यदि हमारा वो रिश्ता प्यार कि श्रेणी मे आता है तो मैंने इतनी कच्ची उम्र मे जीवन का कुछ ज्ञान अवश्य प्राप्त कर लिया औऱ ख़ूबसूरती देखिए ये ज्ञान भी मुझे जाते जाते मेरी प्रेमिका ने ही मुझे सिखाया।


दोस्तो अगर आप भी अपनी कोई स्टोरी लिखकर हमारी वेबसाइट kahanirishteki.com पर पब्लिश करवाना चाहते है तो आप हमारे इस Official Gmail (kahanirishteki@gmail.com) पर अपनी कोई भी स्टोरी लिखकर भेज सकते है । हम आपकी Story 24 घंटे में पब्लिश कर देंगे ।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ