Header Ads

गौतम बुद्ध और घमंडी साधु | Gautam buddha ki kahani । Buddha Story

Gautam Buddha Ki Kahani


घमंडी साधु - Gautam Buddha Ki Kahani 


नमस्ते दोस्तो आज हम एक बार फिर आपके बीच लेकर आये है गौतम बुद्ध और घमंडी साधू की कहानी Gautam Buddha Ki Kahani हमें उम्मीद है कि आपको यह कहानी बेहद पसंद आएगी तो चलिए शुरु करते है ।



एक दिन की बात है जब गौतम बुद्ध नदी के किनारे पर खड़े थे । तभी एक बड़ी जटा वाला साधू  आकर उनसे पूछता है कि क्या आप ही गौतम बुद्ध है। उन्होंने कहा हा मैं ही गौतम बुद्ध हु बोलिए क्या बात है । साधू ने कहा तो फिर आप यहा क्या कर रहे है गौतम बुद्ध ने कहा कि मैं नदी पार करना चाहता हु इसलिए मैं कब से नाव का इंतजार कर रहा हू ।


गौतम बुद्ध की प्रेरक कहानी


गौतम बुद्ध की यह बात सुनकर वह साधू गुस्से में कहने लगा की क्या, आप इतने बड़े है और सारा संसार आपको जानता है और आप एक नदी पार नही कर सकते। आप यही रुके मैं आपको नदी पार करके दिखाता हु, फिर वो साधू थोड़ी ही देर में नदी पार करके वापस लौट आता है। फिर गौतम बुद्ध को कहता है कि देखो मेरे पास इतनी क्षमता और ज्ञान है फिर भी लोग मुझे नही जानते और आप ऐसा कुछ भी नही कर सकते फिर भी सारा संसार आपको जानता है ।

Gautam Buddha Ki Kahani 

और तब गौतम बुद्ध उस साधू से पुछते है कि आपको इस कला को सीखने में कितना वक्त लगा, साधू हंसकर कहता है कि ये कोई साधारण कला नही है, मुझे इस कला को सीखने में पुरे 15 साल लगे है । दोनो बाते ही कर रहे थे तो इतने में उस किनारे से नाव आती है और दोनो नाव में बैठकर नदी पार कर लेते है । फिर गौतम बुद्ध नाव वाले को एक रुपया देते है और उस घमंडी साधू को कहते है कि आपके इतने साल व्यर्थ गए जिस काम को आप एक रुपये में कर सकते थे उस काम के लिए आपने 15 साल बर्बाद किए आप जैसा मुर्ख साधू कोई नही है ।


अगर यही 15 साल लोगो की भलाई और आपने जिवन को सार्थक करने में लगाते तो आज आपको भी कही ना कही पुरा संसार जानता होता और आप एक महान साधू होते और मैंने हमेशा यही किया समाज की भलाई और अपनी आत्मा की शांति इसीलिए लोग मुझे जानते है 


गौतम बुद्ध और घमंडी साधु | Gautam buddha ki kahani in Hindi 


गौतम बुद्ध का ज्ञान सुनकर उस साधू को पछतावा होने लगा की आप सही कह रहे है मेरे 15 साल व्यर्थ गए अगर मैं भी आपके इस मार्ग पर चलता तो मेरा जीवन सार्थक हो जाता । फिर गौतम बुद्ध ने कहा की अब भी कोई देर नही हुई है, अगर आज से आप इस मार्ग पर चलेंगे तो कभी ना कभी लोग आपको जानेंगे और आपका जीवन सार्थक हो जाएगा ।


Moral: दोस्तो हमेशा यह बात याद रखिए कि हमारे टाईम को सही जगह पर इस्तेमाल करना चाहिए ताकि उसका सही मतलब निकल सकें । हमारा टाईम बहुत कीमती है उसे ऐसे व्यर्थ ना करें। 


हमें उम्मीद है कि आपको गौतम बुद्ध और घमंडी साधु की कहानी- Gautam Buddha Ki Kahani बेहद पसंद आई होगी और आपको कुछ सीखने को भी मिला होगा । और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तो और रिश्तेदारो के साथ भी शेयर करें ताकी उन्हे भी कुछ ज्ञान मिल जाएं । कहानी आपको कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताएं । धन्यवाद 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ